There was an error in this gadget

Sunday, December 29, 2013

WHO SAYS - CORRUPTION

WHO SAYS - CORRUPTION


In Delhi, these days the hot topic is corruption. A lot of people are talking about corruption, and still a lot more are talking about eliminating corruption. All and everyone are participating. Removing corruption has become a slogan of the day. Diverse views are being expressed about it.

Where the contenders are more than the resources available and the distribution of those meagre resources poses a problem, that problem is solved by the rules of corruption.

·       The Ration is limited and the ration cards are more. The objective is to secure ration;
·       The queue is long and the time at your disposal is less. The objective is to get to the counter;
·       The seats are limited and the admission seekers are abundant. The objective is get an admission
The instances may be many more. How to solve the problem? The only way in these circumstances is to get a privileged place.

Some theorists may try to solve the problem by laying down a merit criterion. Only the meritorious will get position. But this criterion does not satisfy the failed ones. He feels dissatisfied. This dissatisfaction is more aggravated if the feeling of depravation is coupled with availability of resourcefulness. This is the reality-approach. Those who aspire do not need a justification (of merit-criterion) they need a success; a selection. This gives rise to the thought of corruption.

The view what some people call – corruption is in fact a philosophy. The philosophy is that resources should win. It should win even against the merit. It should win against everything. Some resources are spent to make the remaining resources win and attain the apex position. The success and selection reside at this apex position.
The point is how one sees the corruption. First, it should be understood in its philosophical perspective. One sees corruption differently in different circumstances. If it favours the seeker then he chooses it and if it favours the opposite one then he criticises it. One view on corruption is largely dependent on one’s position – from where the one views it. This is called selective criticism.

In the present society, vituperating and abusing in the name of corruption is merely a selective criticism. In Delhi or for that reason in the whole society how many parents are ready to give up thinking of admission in a respected school despite of it being violative of the rule of distance from the school. How many people are ready to fulfil all requirements of documentation and medical check-up etc. for obtaining a Motor Licence rather than paying an agreed sum of rupees to get rid of this requirement?

If one’s claim is satisfied; it is satisfied conveniently; it satisfied without any rigours – then one is voluntarily ready to spend some money. The money is earned only for convenience. This thought of convenience emerges from the resourcefulness. This motivates for the violation of rules. But this is very natural thought. Along with economic development people start valuing their time in terms of money. If one can earn more in a time span then he prefers to pay for saving that time span. This payment is called bribe. This bribe is self-induced corruption. The seeker does it himself.

The question of payment becomes more pinching when two people lay claim to the same opportunity. If both these claimants are almost equally competent and meritorious then the problem poses still a bigger dimension. As per understandings of human nature, both the claimants will make effort to get a favourable outcome. This is the basic and foremost reason for that practice which these days, is known as corruption.

These days some people are in focus of media. These people are making promises to end corruption. It is not clear what they are saying. They should tell if they are promising to change the mentality of the people. They should tell if they are promising to change the approach of the people. They should tell if they are promising to change the result of evolution of humanity. Or they are just kidding.
Some of such luminaries may allege that this article is favouring – the corruption. It is not so. This article is neither for supporting nor for condemning it. It is just to understand it. It is also to understand those claims which are being laid down unscrupulously these days.


Corruption is a human tendency; a congenital approach of human mind; a result of spirit of survivability which has / has been developed during evolution. The present value system calls this human tendency with a bad name – the corruption. It is not clear what the future will do. The corruption may be useful; may be painful; may be illusive; may be convincing; may be agonizing; may be pleasing; may be tormenting yet it is the tendency of the human race and without it the human society would have not achieved its present form and status. It has to be understood as such.

THE COMPLETE ARTICLE IS AT

Thursday, December 26, 2013

Rajkumar Kejri

एक आवत एक जात

कबीर के दो दोहे हैं
पतझड़ आ गया है। पत्ते झड़ने लगे हैं। नीचे गिरते हुए पत्ते बहुत डिप्रैस्ड फ़ील कर रहे हैं। एक पत्ता आखिरकार कह ही उठता है

पत्ता बोला पेड़ से सुनो वृक्ष बनिराइ
अबके बिछड़े ना मिलैं दूर पड़ेंगे जाइ।।

सनातन वृक्ष के लिए पत्तों का आना जाना उतना सीमित अनुभव नहीं है। वह अनेक पतझड़ और वसन्त देख चुका है। वह इस निरन्तरता को पहचानता है। वृक्ष ने उत्तर दिया

वृक्ष बोला पात से सुन पत्ते मेरी बात
इस घर की यह रीत है एक आवत एक जात।।

अतः यहाँ से इति AAP कथा – राजकुमार केजरी



भारतीय राजनीति को गौर से देखने वाले जानते हैं कि राज्यों का भारत में विलय, चीनी आक्रमण, नेहरू-निधन, कामराज प्लान, कांग्रेसी सिंडिकेट, संविद सरकारें और इंदिरा का उदय भारतीय राजनीति के मील के पत्थर तो हैं लेकिन युगाँतरकारी घटनाएँ नहीं है। इन घटनाओं पर भारतीय इतिहास ने करवटें तो बदली परन्तु राजनीति की धमनियों में वही खून दौड़ा किया।

लेकिन सन् पिच्छत्तर की इमरजैंसी ने जैसे पिछले पाँच हजार साल से सोते भारत को झकझोर दिया था। विपक्ष ने इमरजैंसी की अ-लोकताँत्रिक छवि की बहुत आलोचना की है। काँग्रेस ने उस निर्णय का बचाव किया है। इस राजनीतिक प्रशँसा-आलोचना से परे उस इमरजैंसी ने भारत के जनमानस को सोते से जगाया था। जागने पर जनता ने अँगड़ाई ली और अँगड़ाई लेते लेते 1977 आ गया था। तब भारत की उस निरीह जनता ने जो पाठ महात्मा गाँधी से पढ़ा था उसे दोहरा दिया। एक स्थापित साम्राज्य 1947 में चूर हुआ था दूसरा तीस बरस बाद 1977 में हो गया। वह भारतीय संदर्भों में हुई एक रक्तहीन रूसी क्राँति थी। तत्कालीन लेखों में लिखा गया कि 60 बरसों के बाद रूसी क्राँति भारत में घटित हो गई थी। परन्तु यह इतनी भर ना थी। रूसी क्राँति एक दिशा में चलने वाली रेल थी तो भारतीय क्राँति उससे अधिक व्यापक और गहन अर्थों वाली थी। इसके ये अर्थ और व्यापकता आने वाले वर्षों में साबित हुए। इसलिए भारत के राजनीतिक इतिहास को लिखते समय 1975 का साल बिना किसी हानि के एक रेफरैंस प्वाइँट के रूप में लिया जा सकता है। यहाँ इस लेख में समय की गणना साल 75 से ही की गई है।
… …
केजरीवाल ने जनता से वादे किये। उन्होंने जनता को कहा कि पुराने राजनीतिज्ञों का यकीन ना करो क्योंकि वे झूठ बोलते हैं। उन्होंने बहुत बेझिझक अँदाज में कहा कि वर्तमान राजनीति में जो लोग उनके साथ हैं सिर्फ वे ही ईमानदार हैं शेष सब बेईमान हैं। इतना ही नहीं उन्होंने एक ऐसी शब्दावली का प्रयोग किया जो बिल्कुल नई थी और जिसे याद करने के लिए भी दोहराया नहीं जा सकता। तमाम परिभाषित रूपों को तोड़ दिया गया। उनके साथ चलने वाले और स्वयँ को उच्च साहित्यकार कहने वाले लोगों ने तो ऐसे ऐसे भाषिक प्रयोग किये कि मदिरा पान के बाद सड़क पर लड़ने वाले यौद्धाओं ने भी दाँतो तले उँगलियाँ दबा ली थीं। समसामयिक सिनेमा का प्रभाव कहये या कुछ और कहिये लोगों को यह केजरीवाल – आल्हा बहुत पसँद आई और उन्होंने उसे बहुत ध्यान और चाव से सुना। अपने वोट के रूप में सकारात्मक उत्तर भी दिया। आज केजरीवाल बाबू पर सत्ता का चँवर डुलाया जा रहा है।

जैसा 1977 में भारतीय-काँग्रेस ने महसूस किया था वैसा ही 2013 में दिल्ली-काँग्रेस ने महसूस किया। अन्य विपक्षी दल भाजपा सदमा, राहत, हैरानी, घात और किंकर्त्तव्यविमूढ़ता (दुविधा) के मिले जिले भावों से ग्रस्त है। उससे ना बोलते बन पड़ रहा है और ना ही चुप रहते।
… …
ऐसे में नीले आसमान में सफेद घोड़े पर बैठा यह केजरीवाल नाम का राजकुमार जिस जादू की छड़ी को हिला कर भारत के समाज को बदलने की घोषणा कर रहा है वह कितनी विश्वसनीय है यह एक ऐसा सदका है जिस आने वाला समय बहुत जल्द जनता के सामने उतारने वाला है। लेकिन इसे सिर्फ़ समय के सहारे नहीं छोड़ा जा सकता। इसका क तार्किक आकलन आवश्यक है।

THE COMPLETE ARTICLE IS AT THE LINK BELOW:



Wednesday, December 25, 2013

AAP Govt. – Be Comfortable

AAP Govt. – Be Comfortable With the Change

AAP is likely to form its government soon, within a day or two. The emergence of AAP has been quite sudden and unexpected. Those who are accustomed to the traditional mode of politics may feel a bit uncomfortable for the language the champions of AAP are using and modus they are adopting. On a number of issues they have adopted the methodological approach – if you are not with us then you are against us; the one which was adopted by America before its War on Terror in Afghanistan. It baffles the conventional intelligentsia in Indian politics.

But every new beginning of foundations is possible only when the existing structures are removed. AAP claims to remove the remnants of the erstwhile politics. It claims not to improve the politics but to end the rotten ways of existing politics and start a new politics – lucid and transparent in its working.
Public is mostly divided in two groups – the one which cast votes and the other those who after casting votes discuss the implications also. This second group is now apprehensive regarding the performance of AAP Govt. The main promise regarding the reduction in power tariffs appears to be stuck in the clutches of power supply companies. If these companies do not agree to supply power at a rate forced by AAP Govt. and in case of highhandedness by the AAP, then would the people of Delhi be going to face a threatened black out in near future. The answer is not so simple. It may be anything ranging from the confidence and trickiness of Kejriwal – the headman to disastrous frustration of the public’s dream of a new era politics.

The second issue is providing a minimum quantity of water to each family. So far no data has been presented, neither by the proposed or previous Govt.s, showing the precise number of the families which are in demand of water. Secondly, the water in Delhi is not locally available. It has to be taken from the adjoining states. Then it has to be purified. Then it has to be distributed. Delhi Jal Board does not have resources enough even to reach the entire public in Delhi. In these circumstances how the goals are to be achieved will be awaited by all the concerned ones.

Same appears to be the fate of Jan Lokpal Bill. It cannot be passed by the Delhi legislative assembly simpliciter. The Sansad is to be taken into confidence. There are rules in that regard. Until these rules are changed and the equations between the Delhi Govt. and the Central Govt. are modified AAP Govt. would not be able to perform in accordance to their promises.

But one thing is sure. The working of the AAP in government is not going to be less interesting then the hymns chanted by them during their risings. The future is certainly going to be interesting.

THE COMPLETE ARTICLE IS AT THE LINK BELOW

Monday, December 16, 2013

उपवन प्रबंधन के बोझ से हाँफती तितलियों की व्यथा


परन्तु  दिल्ली की जनता अवाक् है। कुछ कहते नहीं बन रहा है। अनेक नए मतदाताओं ने इस बार एक निर्वाक् क्राँति Silent Revolution को वोट दिया था। बिना किसी शोर के दिल्ली की शासन धमनियों में एक नये रंग का रक्त प्रवाहित कर दिया था ताकि एक सड़े हुए सिस्टम का बोझ उसे और ना उठाना पड़े। लेकिन चुनाव परिणामों ने ना सिर्फ़ बोझ और अधिक बढ़ा दिया है बल्कि जो चेहरे तारनहार के रूप में अवतरित होकर सामने आए थे चुनावों के बाद उन चेहरों की आभा ही समाप्त हो गई है। वे चेहरे आभाहीन नज़र आ रहे हैं। जनता किंकर्त्त्तव्यविमूढ़ है, दुविधा में है, कन्फ्यूज़्ड है कि ऐसे में क्या करे। भरोसा चूर चूर हो गया लगता है।

आओ विचार करें।

सत्ता का स्वरूप राजनीतिक है राजनीति पर आधारित है। वैसे ही जैसे कि बाजार का स्वरूप मौद्रिक है मुद्रा (पैसे) पर आधारित है। यदि कोई सज्जन यह कहे कि उसे बाजार से कोई गुरेज़ नहीं है बस उसमें पैसे का चलन रोक दो। पैसा बुरा है। पैसा लोभ लालच की जड़ है। बाजार में से पैसा हटा दो तो मुझे बाजार स्वीकार है और मैं भी अपनी दुकान खोलने के लिये तैयार हूँ। तो ऐसे तर्क सुनकर विद्वान लोग उन सज्जन को कहते हैं कि आप को यदि पैसे से परहेज़ है तो बाजार में आते ही क्यों हो। दुकान खोलते ही क्यों हो। अध्यात्म में जाओ और आश्रम खोलो। दुकान मत खोलो।

ऐसे ही तर्क आजकल दिल्ली की हवाओं में तैर रहे हैं। हम सरकार बना सकते हैं यदि आप वादा करो कि आप कोई राजनीति नहीं करोगे। यदि आप वादा करो कि आप अपने आँख कान मूँदकर हमारे पीछे पीछे चलोगे। यदि आप वादा करो कि आप हमारी गालियों के जवाब में चुप रहोगे। गालियाँ तो हम आपको इस लिये देते हैं कि हम ईमानदार हैं और अन्य कोई ईमानदार नहीं है। वादा करो कि चुपचाप हमारी गालियाँ सुनते रहोगे और कभी पलटकर जवाब नहीं दोगे। अगर जवाब दे दिया तो हम सरकार नहीं बनाएँगे।

अब किसी दल को कोई समाधान सूझ नहीं रहा है। वे राजनीतिक दल हैं। राजनीति ना करें तो क्या करें। शासन समीकरणों द्वारा राजनीति ही उन दलों का आकार तय करती है। वे दल शासन का स्वरूप तय करते हैं। अब शर्त लगाई जा रही है कि आप राजनीति ना करें। तो ऐसे में वे दल क्या करें। अगर वे दल राजनीति ना करें तो फिर राजनीति कौन करेगा। आप तो ईमानदार हैं राजनीति करोगे नहीं तो क्या आप उसी राजनीति को समाप्त करना चाहते हो जो राजनीति आपके जन्म, वृद्धि और पराक्रम के लिये जिम्मेदार है। जो राजनीति आपको मुख्य पटल पर लाई वही आप बंद करवा रहे हैं तो फिर जनता का क्या होगा जिसके पास राजनीतिक पद्धति के रूप में मतदान सबसे बड़ा हथियार है। आपकी ये बातें तो उसी जनता के खिलाफ हैं जिसने आपके  लिये वोट किया था। क्या आप ऐसी बातें सोच समझ कर रहे हैं क्योंकि आपका दावा है कि आपसे बेहतर कोई अन्य नहीं सोच सकता है।

FOR COMPLETE ARTICLE PLEASE VISIT THE LINK BELOW

Saturday, December 14, 2013

18 Conditions of AAP

18 Conditions of AAP: पास करोगे तो ही परीक्षा दूँगा


बच्चों के खेल में जिसके पास बैट या बॉल होती है वह खेल को शुरू करवाने के लिए अपनी शर्तें रखता है। पहले मुझे बैटिंग दोगे तो खेलूँगा। या मुझे बॉल धीमी फेंकोगे तो खेलूँगा। तेज बॉलिंग करोगे तो नहीं खेलूँगा। मुझे हाफ़ सेंचुरी से पहले आऊट करोगे तो अपना बैट वापिस ले लूँगा। आदि आदि।
दिल्ली के राजनीतिक गलियारों में आजकल कुछ ऐसा ही देखने में आ रहा है। विधानसभा में किसी के पास स्पष्ट बहुमत नहीं आया। भाजपा के पास 32, AAP के पास 28 और काँग्रेस के पास 8 विधायक हैं। उपराज्यपाल ने भाजपा को सरकार बनाने के लिए आमन्त्रित किया तो उसने अपनी असमर्थता जाहिर कर दी। इसके बाद एक राजनीतिक प्रहसन शुरू हो गया जिसे दिल्ली की जनता और प्रतिनिधि संभवतः पहली बार देख रहे हैं।
काँग्रेस ने बिना शर्त AAP को समर्थन की घोषणा कर दी। जवाब में AAP ने 18 शर्तों की फेहरिस्त जारी करके कहा कि यदि काँग्रेस और भाजपा इन 18 शर्तों को मानेंगे तो हम सरकार बनाएँगे वरना तो नहीं बनाएँगे। अभी तक राजनीति को गम्भीर कार्यों का स्थान समझा जाता है। कुछ लोगों को कहना है कि AAP की राजनीतिक विजय के पश्चात राजनीति में अगम्भीरता बढ़ी है। लोग कुछ भी अव्यवहारिक कह देने को सामान्य मानने लगे हैं।
राजनीति के विचारक पूछते हैं कि इन 18 शर्तों से बड़ा राजनैतिक मज़ाक और क्या हो सकता है। ये 18 शर्तें वे वायदे हैं जिन्हें AAP ने दिल्ली के जनता से किया था। इन 18 शर्तों को अगर वे अपने विरोधियों से पूरा करवाना चाहते हैं तो फिर वे स्वयँ क्या करेंगे। चुनावों में उनका वायदा था कि वे खुद इन 18 शर्तों को पूरा करेंगे। लेकिन अब वे इन्हें अपने राजनीतिक विरोधियों के द्वारा पूरा करवाना चाहते हैं।
AAP का कहना है कि हमें इन 18 शर्तों को पूरा करके दोगे तो ही हम सरकार बनाएँगे। टीवी के कार्यक्रमों में आए एक विद्वान ने कहा कि ये नौसिखिये लोग हैं जो सरकार बनाने के लिए बालकों के खेल जैसी शर्तें रख रहें हैं। जनता के बीच काम करने से पहले ही ये अपने विरोधियों से इनके खिलाफ़ राजनीति ना करने का आश्वासन चाहते हैं। यह एक भयभीत दल का काम है। समरवीर यौद्धा इस तरह की पलायनवादी बातें नहीं करते कि परीक्षा में तभी बैठेंगे जब पास कराने का भरोसा दोगे।
पूछा जा रहा है कि यह राजनीति है या राजनीति के नाम पर वितंडा है।
 
COMPLETE ARTICLE IS AT

Wednesday, December 11, 2013

An RSS of Kejriwal or Anna of BJP

An RSS of Kejriwal or Anna of BJP 



This article in Hindi is available at

केजरीवाल का संघ या भाजपा के अन्ना

Many a (political) parties have on their back a social, religious or an educational movement. This movement feeds the party an intellectual diet and the party provides a ‘space of expansion’ to that movement. In present times the combination of BJP and the RSS is an example. The RSS is a movement. The BJP is a (political) party. The RSS provides an intellectual base to the BJP and in turn the BJP provides a political palatability to that intellectual philosophy of the RSS. This article strictly forbears to appreciate or criticize the personal nouns used here. It is only an academic debate.

Anna was in Maharashtra. Arvind Kejriwal was in Delhi. Anna claims to be a movement there. And this claim has its own weight. Kejriwal brought him to Delhi and the movement got a bigger canvas to act upon. Kejriwal took a turn and became a party while Anna remained a movement. Both of them took their stand distinctively but firmly.

At a time when both of them used to be a movement they organized a Ramlila Maidan with a long fast by Anna. The government felt terrified and it attacked the movement Anna. At that time a common man of Delhi had identified itself with the movement. The people of Delhi took that attack by government as onto themselves and the public stood garrisoned with the movement.

Later people saw the party (Kejriwal) separating it from the movement (Anna). The party contested Delhi Assembly elections and made unprecedented records of victory. After victory the party (Kejriwal) announced that its next target would be Mumbai. And suddenly the report came in the media that the movement (Anna) had started its fast unto death in Ralegan a place in Maharashtra. 

What is all this?

Is it a movement backing a party but too clandestinely? Is there some need to have this clandestine approach? Why the things are hidden from public; from the same public who contributed their blood and sweat in their fight for Lokpal (!!); from the public who cast their vote to support you in a historically unprecedented manner?

Public of Delhi and for that matter the public of India is not clear that if you are movement and feed a party then why are you not courageous enough to announce it openly? Public is also not clear that if you are a party and reap the benefits of a movement then why is it not admitted clearly?
At least BJP and RSS both always have shown a courage to have their principled relationship on board.

Sunday, December 8, 2013

दिल्ली चुनाव 2013: अमूर्त मुख भाजपा

दिल्ली चुनाव 2013:  अमूर्त मुख भाजपा

PS Malik


पाँच राज्यों के चुनाव हुए। नतीजे आए। उनकी घोषणाएँ हुईं। अब आगे सरकारों का गठन होगा। सब सामान्य लगता है। राजनीतिक विश्लेषक अपने अपने विश्लेषणों में जुट गए।
परन्तु दिल्ली में कुछ अलग हुआ; कुछ विचित्र हुआ। इसे दो रूपों में देख सकते हैं। पहला तो एक नई राजनीतिक ताकत के रूप में केजरीवाल का उदय है। केजरीवाल का इसलिये कि अपने गठन और उसके बाद के काल में यह आन्दोलन जो पहले अन्ना की छाया में खड़ा हुआ था बाद में केजरीवाल की परछाईं के रूप में बड़ा हुआ है। आप नाम की राजनीतिक पार्टी केजरीवाल की परछाईं ही है। यह केजरीवाल का ही निर्वैयक्तिक विस्तार है जिसमें कुछ अन्य चेहरे टाँके गए नजर आते हैं।

दिल्ली के चुनावों की दूसरी विस्मयकारी घटना है – भाजपा की विजय। मदन लाल खुराना और साहिब सिंह वर्मा के वक्तों से लेकर दिल्ली भाजपा अपना कोई चेहरा ही नहीं बना पाई है। बल्कि पिछले कुछ समय से तो जिन चेहरों को दिल्ली भाजपा के सिंहासन पर बिठाया गया वे उसके सिर के ताज नहीं बन पाए सिर के बोझ जरूर बन गये थे। भाजपा को उन्हें खुद ही सिंहासन से दूर करना पड़ा। इस चुनाव 2013 में भी जनता ने उन चेहरों को नकार दिया। नतीजों में कहीं निचला क्रम ही उन चेहरों को मिल पाया।

जिन चेहरों को आगे करके इन चुनावों में दिल्ली भाजपा जनमत पाने को आई वे भी बहुत सकारात्मक नहीं थे। चमत्कारिक तो बिल्कुल नहीं थे जैसे कि केजरीवाल रहे और आप नाम की राजनीतिक पार्टी के रूप में उनका निर्वैयक्तिक विस्तार रहा। तो फिर भाजपा दिल्ली में चुनाव जीती क्यों?

चुनाव के तत्काल बाद मैं कई लोगों से मिला और जाना की उन्होंने किसे मत दिया और क्यों दिया। अनेक मतदाताओं ने बताया कि उन्होंने भाजपा को वोट दिया है। परन्तु अनेक मतदाता तो अपने निर्वाचन क्षेत्र के भाजपा प्रत्याशी का नाम भी नहीं जानते थे। उन्होंने भाजपा को वोट दिया था। इन चुनावों से पहले दिल्ली भाजपा का कोई जनआन्दोलन तो याद नहीं आता है। तब इस भाजपा वोट का आधार क्या था?

इसका उत्तर है – नरेन्द्र मोदी। चुनाव पूर्व में भाजपा का एक ही आन्दोलन याद आता है – नरेन्द्र मोदी। शायद पूरे देश के मतदाता को नरेन्द्र मोदी के रूप में एक नायक मिला है। उसी नायक की परछाईं जब दिल्ली पर पड़ी तो वह दिल्ली की गद्दी बन कर अवतरित हुई। दिल्ली की गद्दी दिल्ली भाजपा की कमाई नहीं है बल्कि मोदी की परछाईं का मूर्तिमान रूप है। ठीक वैसे ही जैसे कि आप नाम की राजनीतिक पार्टी की सीटें केजरीवाल की परछाईं का मूर्तिमान रूप है। इस प्रकार चुनाव 2013 दो व्यक्तित्वों का अभ्युदय है भारतीय कैनवस पर मोदी और दिल्ली के फ़लक पर केजरीवाल। दिल्ली में भाजपा लगभग बिना चेहरे मोहरे वाली सी है।

यह बिना चेहरे वाली दिल्ली भाजपा दिल्ली की गद्दी को प्राप्त को कर रही है पर इसका निर्वाह कैसे करेगी यह मूल प्रश्न है। अगर यह दिल्ली भाजपा जल्द ही एक सुन्दर जनग्राह्य रूप धारण नहीं करती है तो मोदी नामक जनआन्दोलन को नुकसान पहुँचा सकती है।


यह अमूर्त मुख भाजपा निकट भविष्य में दिल्ली में क्या करती है, कैसा रूप धरती है – इसकी प्रतीक्षा मोदी, केजरीवाल और दिल्ली के मतदाता सबको रहने वाली है।